Importance Of Education In Students Life Essay In Hindi

हम सभी अपने बच्चों को सफलता की ओर जाते हुए देखना चाहते हैं, जो केवल अच्छी और उचित शिक्षा के माध्यम से ही संभव है। सभी अभिभावक अपने बच्चों को बचपन से ही जीवन में शिक्षा के महत्व और शिक्षा के लाभों के बारे में बताते हैं, ताकि वे उनका ध्यान भविष्य में बेहतर शिक्षा की ओर कर सकें। अपने बच्चों और छात्रों को स्कूल या कॉलेज में निबंध लेखन, पैराग्राफ लेखन, वाद-विवाद में भागीदारी आदि गुणों को बढ़ावा देने के लिए, इस तरह के सरल निबंधों का प्रयोग कर सकते हैं। हम यहाँ सभी अभिभावकों के लिए उनके बच्चों का बेहतर भविष्य निर्माण करने के लिए शिक्षा के महत्व पर आसान निबंध उपलब्ध करा रहे हैं।ये सभी शिक्षा के महत्व पर निबंध, विशेषरुप से विद्यार्थियों के लिए सरल शब्दों में लिखे गए हैं और विभिन्न शब्द सीमाओं में दिए गए हैं। आप इनमें से किसी भी निबंध को अपनी कक्षा की जरुरत और आवश्यकता के अनुसार चुन सकते हैं:

शिक्षा के महत्व पर निबंध (इम्पोर्टेन्स ऑफ़ एजुकेशन एस्से)

Find here essay on importance of education in Hindi language in different words limit like 100, 150, 200, 250, 350, and 450 words.

शिक्षा का महत्व पर निबंध 1 (100 शब्द)

बेहतर शिक्षा सभी के लिए जीवन में आगे बढ़ने और सफलता प्राप्त करने के लिए बहुत आवश्यक है। यह आत्मविश्वास विकसित करती है और एक व्यक्ति के व्यक्तित्व के निर्माण में मदद करती है। स्कूली शिक्षा सभी के जीवन में महान भूमिका निभाती है। पूरे शिक्षा तंत्र को तीन भागों में बाँटा गया है जैसे; प्राथमिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा और उच्च माध्यमिक शिक्षा। सभी शिक्षा के भाग अपना एक विशेष महत्व और लाभ रखते हैं। प्राथमिक शिक्षा विद्यार्थियों को आधार प्रदान करती है, जो जीवनभर मदद करती है, माध्यमिक शिक्षा आगे की पढ़ाई का रास्ता है और उच्च माध्यमिक शिक्षा पूरे जीवन में, भविष्य में आगे बढ़ने का रास्ता है। हमारी अच्छी और बुरी शिक्षा यह निर्धारित करती है कि हम भविष्य में किस प्रकार के व्यक्ति बनेगें।

शिक्षा का महत्व पर निबंध 2 (150 शब्द)

इस प्रतियोगी संसार में, सभी के लिए शिक्षा प्राप्त करना बहुत आवश्यक है। उच्च शिक्षा का महत्व नौकरी और अच्छा पद प्राप्त करने के लिए बहुत अधिक बढ़ गया है। उचित शिक्षा भविष्य में आगे बढ़ने के लिए बहुत से रास्तों का निर्माण करती है। यह हमारे ज्ञान के स्तर, तकनीकी कौशल और नौकरी में उच्च पद को प्राप्त करने के द्वारा हमें सामाजिक, मानसिक और बौद्धिक रुप से मजबूत बनाती है। हरेक बच्चा अपने जीवन में कुछ अलग करने का सपना रखता है। कभी-कभी कुछ माता-पिता भी अपने बच्चे को बड़ा होकर डॉक्टर, आई.ए.एस. अधिकारी, पी.सी.एस. अधिकारी, इंजीनियर या अन्य उच्च पदों पर देखना चाहते हैं। सभी सपनों को सच करने का केवल एक ही रास्ता है, अच्छी शिक्षा।

वो विद्यार्थी जो अन्य क्षेत्रों में दिलचस्पी रखते हैं जैसे; खेल, स्पोर्ट्स, नृत्य, संगीत आदि को डिग्री, ज्ञान कौशलऔर आत्मविश्वास, प्राप्त करने के लिएअपनी शिक्षा के साथ जारी रखते हैं। शिक्षा के राज्यों के अनुसार बहुत से बोर्ड (प्राधिकरण) भी हैं जैसे; यू.पी. बोर्ड, बिहार बोर्ड, आई.सी.एस.ई. बोर्ड, सी.बी.एस.ई. बोर्ड आदि। शिक्षा बहुत अच्छा यंत्र है जो हम सभी को पूरे जीवनभर लाभान्वित करता है।

शिक्षा का महत्व पर निबंध 3 (200 शब्द)

जीवन में सफलता प्राप्त करने और कुछ अलग करने के लिएशिक्षा सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण उपकरण है। यह जीवन के कठिन समय में चुनौतियों से सामना करने का पाढ़ सिखाने में बहुत मदद करती है। पूरी शिक्षण प्रक्रिया के दौरान प्राप्त किया गया ज्ञान हम सभी और प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन के प्रति आत्मनिर्भर बनाता है। यह जीवन में बेहतर संभावनाओं को प्राप्त करने के अवसरों के लिए विभिन्न दरवाजे खोलती है जिससे कैरियर के विकास को बढ़ावा मिले। ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा के महत्व को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा बहुत से जागरुकता अभियान चलाए जा रहे हैं। यह समाज में सभी व्यक्तियों में समानता की भावना लाती है और देश के विकास और वृद्धि को भी बढ़ावा देती है।

आधुनिक तकनीकी संसार में शिक्षा मुख्य भूमिका को निभाती है। आजकल, शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए बहुत तरीके हैं। शिक्षा का पूरा तंत्र अब बदल दिया गया है। हम अब 12वीं कक्षा के बाद दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रम (डिस्टेंस एजूकेशन) के माध्यम से भी नौकरी के साथ ही पढ़ाई भी कर सकते हैं। शिक्षा बहुत महंगी नहीं है, कोई भी कम धन होने के बाद भी अपनीपढ़ाई जारी रख सकता है। दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से हम आसानीसे किसी भी बड़े और प्रसिद्ध विश्वविद्यालय में बहुत कम शुल्क पर प्रवेश ले सकते हैं। अन्य छोटे संस्थान भी किसी विशेष क्षेत्र में कौशल को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा प्रदान कर रहे हैं।


 

शिक्षा का महत्व पर शिक्षा 4 (250 शब्द)

शिक्षा स्त्री और पुरुषोंदोनों के लिए समान रुप से आवश्यक है, क्योंकि दोनों ही मिलकर स्वस्थ्य और शिक्षित समाज का निर्माण करते हैं। यह उज्ज्वल भविष्य के लिए आवश्यक यंत्र होने के साथ ही देश के विकास और प्रगति में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस तरह, उपयुक्त शिक्षा दोनों के उज्ज्वल भविष्य का निर्माण करती है। वो केवल शिक्षित नेता ही होते हैं, जो एक राष्ट्र का निर्माण करके, इसे सफलता और प्रगति के रास्ते की ओर ले जाते हैं। शिक्षा जहाँ तक संभव होता है उस सीमा तक लोगों बेहतर और सज्जन बनाती है।

अच्छी शिक्षा जीवन में बहुत से उद्देश्यों को प्रदान करती है जैसे; व्यक्तिगत उन्नति को बढ़ावा, सामाजिक स्तर में बढ़ावा, सामाजिक स्वास्थ में सुधार, आर्थिक प्रगति, राष्ट्र की सफलता, जीवन में लक्ष्यों को निर्धारित करना, हमें सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरुक करना और पर्यावरणीय समस्याओं को सुलझाने के लिए हल प्रदान करना और अन्य सामाजिक मुद्दें आदि। दूरस्थ शिक्षा प्रणाली के प्रयोग के कारण, आजकल शिक्षा प्रणाली बहुत साधारण और आसान हो गयी है। आधुनिक शिक्षा प्रणाली,अशिक्षा और समानता के मुद्दें को विभिन्न जाति, धर्म व जनजाति के बीच से पूरी तरह से हटाने में सक्षम है।

शिक्षा लोगों के मस्तिष्क को बड़े स्तर पर विकसित करती है और समाज में लोगों के बीच सभी भेदभावों को हटाने में मदद करती है। यह हमें अच्छा अध्ययन कर्ता बनने में मदद करती है और जीवन के हर पहलु को समझने के लिए सूझ-बूझ को विकसित करती है। यह सभी मानव अधिकारों, सामाजिक अधिकारों, देश के प्रति कर्तव्यों और दायित्वों को समझने में मदद करती है।

शिक्षा का महत्व पर निबंध 5 (350 शब्द)

शिक्षा हम सभी के उज्ज्वल भविष्य के लिए आवश्यक उपकरण है।हम जीवन में शिक्षा के इस उपकरण का प्रयोग करके कुछ भी अच्छा प्राप्त कर सकते हैं। शिक्षा का उच्च स्तर लोगों को सामाजिक और पारिवारिक आदर और एक अलग पहचान बनाने में मदद करता है। शिक्षा का समय सभी के लिए सामाजिक और व्यक्तिगत रुप से बहुत महत्वपूर्ण समय होता है। यह एक व्यक्ति को जीवन में एक अलग स्तर और अच्छाई की भावना को विकसितकरती है। शिक्षा किसी भी बड़ी पारिवारिक, सामाजिक और यहाँ तक कि राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय समस्याओं को भी हर करने की क्षमता प्रदान करती है। हम से कोई भी जीवन के हरेक पहलु में शिक्षा के महत्व को अनेदेखा नहीं कर सकता। यह मस्तिष्क को सकारात्मकता ओर मोड़ती है और सभी मानसिक और नकारात्मक विचारधाराओं को हटाती है।

यह लोगों की सोच को सकारात्मक विचार लाकर बदलती है और नकारात्मक विचारों को हटाती है। बचपन में ही हमारे माता-पिता हमारे मस्तिष्क को शिक्षा की ओर ले जाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे हमें प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्था से अच्छी शिक्षा प्रदान करने में अपने सबसे अच्छे प्रयासों को करते हैं। यह हमें तकनीकी और उच्च कौशल वाले ज्ञान के साथ ही पूरे संसार में हमारे विचारों को विकसित करने की क्षमता प्रदान करती है। अपने कौशल और ज्ञान को बढ़ाने का सबसे अच्छे तरीके अखबारों को पढ़ना, टीवी पर ज्ञानवर्धक कार्यक्रमों को देखना, अच्छे लेखकों की किताबें पढ़ना आदि हैं। शिक्षा हमें अधिक सभ्य और बेहतर शिक्षित बनाती है। यह समाज में बेहतर पद और नौकरी में कल्पना की गए पद को प्राप्त करने में हमारी मदद करती है।

यह हमें जीवन में एक अच्छा चिकित्सक, अभियंता (इंजीनियर), पायलट, शिक्षक आदि, जो भी हम बनना चाहते हैं वो बनने के योग्य बनाती है। नियमित और उचित शिक्षा हमें जीवन में लक्ष्य को बनाने के द्वारा सफलता की ओर ले जाती है। पहले शिक्षा प्रणाली बहुत कठिन थी। सभी जातियाँ अपनी इच्छा के अनुसार शिक्षा प्राप्त नहीं कर सकती थी। अधिक शुल्क होने के कारण प्रतिष्ठित कॉलेज में प्रवेश लेना बहुत मुश्किल है। लेकिन अब, दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से शिक्षा प्राप्त करके आगे बढ़ना बहुत ही आसान और सरल बन गया है।


 

शिक्षा का महत्व पर निबंध 6 (400 शब्द)

घर शिक्षा प्राप्त करने पहला स्थान है और सभी के जीवन में अभिभावक पहले शिक्षक होते हैं। हम अपने बचपन में, शिक्षा का पहला पाठ अपने घर विशेषरुप से माँ से से प्राप्त करते हैं। हमारे माता-पिता जीवन में शिक्षा के महत्व को बताते हैं। जब हम 3 या 4 साल के हो जाते हैं, तो हम स्कूल में उपयुक्त, नियमित और क्रमबद्ध पढ़ाई के लिए भेजे जाते हैं, जहाँ हमें बहुत सी परीक्षाएं देनी पड़ती है, तब हमें एक कक्षा उत्तीर्ण करने का प्रमाण मिलता है। एक-एक कक्षा को उत्तीर्ण करते हुए हम धीरे-धीरे आगे बढ़ते हैं, जब तक कि, हम 12वीं कक्षा को पास नहीं कर लेते। इसके बाद, तकनीकी या पेशेवर डिग्री की प्राप्ति के लिए तैयारी शुरु कर देते हैं, जिसे उच्च शिक्षा भी कहा जाता है। उच्च शिक्षा सभी के लिए अच्छी और तकनीकी नौकरी प्राप्त करने के लिए बहुत आवश्यक है।

हम अपने अभिभावकों और शिक्षक के प्रयासों के द्वारा अपने जीवन में अच्छे शिक्षित व्यक्ति बनते हैं। वे वास्तव में हमारे शुभचितंक हैं, जिन्होंने हमारे जीवन को सफलता की ओर ले जाने में मदद की। आजकल, शिक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए बहुत सी सरकारी योजनाएं चलायी जा रही हैं ताकि, सभी की उपयुक्त शिक्षा तक पहुँच संभव हो। ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को शिक्षा के महत्व और लाभों को दिखाने के लिए टीवी और अखबारों में बहुत से विज्ञापनों को दिखाया जाता है क्योंकि पिछड़े ग्रामीण क्षेत्रों में लोग गरीबी और शिक्षा की ओर अधूरी जानकारी के कारण पढ़ाई करना नहीं चाहते हैं।

पहले, शिक्षा प्रणाली बहुत ही महंगी और कठिन थी, गरीब लोग 12वीं कक्षा के बाद उच्च शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम नहीं थे। समाज में लोगों के बीच बहुत अन्तर और असमानता थी। उच्च जाति के लोग, अच्छे से शिक्षा प्राप्त करते थे और निम्न जाति के लोगों को स्कूल या कॉलेज में शिक्षा प्राप्त करने की अनुमति नहीं थी। यद्यपि, अब शिक्षा की पूरी प्रक्रिया और विषय में बड़े स्तर पर परिवर्तन किए गए हैं। भारतीय सरकार के द्वारा सभी के लिए शिक्षा प्रणाली को सुगम और कम महंगी करने के लिए बहुत से नियम और कानून बनाकर लागू किया है। सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण, दूरस्थ शिक्षा प्रणाली ने उच्च शिक्षा को सस्ता और सुगम बनाया है, ताकि पिछड़े क्षेत्रों, गरीबों और मध्यम वर्ग के लोगों के लिए भविष्य में समान शिक्षा और सफलता प्राप्त करने के अवसर मिलें। भलीभाँति शिक्षित व्यक्ति देश के मजबूत आधार स्तम्भ होते हैं और भविष्य में इसको आगे ले जाने में नेतृत्व करते हैं। इस तरह, शिक्षा वो उपकरण है, जो जीवन, समाज और राष्ट्र में सभी असंभव स्थितियों को संभव बनाती है।


Previous Story

स्कूल पर निबंध

Next Story

शिक्षा पर निबंध

पढाई (शिक्षा) का महत्व पर लेख | Importance of Education Article in hindi

पढाई का आज के जीवन में बहुत महत्व है, इसके सिर्फ फायदे ही फायदे है. पढाई से ज्ञान मिलता है, जो इन्सान को अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है. शिक्षा का महत्व युगों युगों से चला आ रहा है. पहले लोग किसी महान महापुरुष के पास जाकर शिक्षा लिया करते थे, उनके आश्रम में रहकर हर प्रकार की शिक्षा लेते थे. फिर गुरुकुल भी बने, जहाँ वेद पूरण का ज्ञान दिया जाने लगा. अंग्रेजों के आने के पहले ऐसे ही शिक्षा दी जाती थी, उनके आने के बाद शिक्षा का रूप बदल गया. शिक्षा के लिए स्कूल बनाए गए, जहाँ सिर्फ पढाई पर ध्यान दिया जाता था, दूसरी बातों का ज्ञान यहाँ नहीं मिलता था. शिक्षा के क्षेत्र में और तरक्की हुई, और सरकारी स्कूल के अलावा प्राइवेट स्कूल भी बनने लगे. बड़े बड़े कॉलेज का निर्माण हो गया, अलग अलग क्षेत्र की शिक्षा के लिए अलग अलग कॉलेज बन गए.

पढाई का महत्व पर लेख

Importance of Education Article in hindi

अगर आपसे पुछा जाये आपसे A B C आता है, तो आप कहेंगे हां, इसका क्या मतलब है आप शिक्षित है या साक्षर? शिक्षित होना और साक्षर होना दोनों में अंतर होता है. साक्षरता का मतलब होता है कि आप पढ़ लिख सकते है. शिक्षा का मतलब है कि आप पढ़ लिख सकते हैं और इस शिक्षा का उपयोग आप अपने फायदे के लिए भी कर सकते है. अगर आप पढ़ना लिखना जानते है, लेकिन ये न समझे कि कैसे उपयोग करे, कैसे इसका उपयोग कर जीवन में आगे बढ़ें तो आपके साक्षर होने का क्या फायदा. साक्षर होना बस काफी नहीं है, आपको शिक्षित होना चाहिए. आजकल हर देश में वहां के नागरिक को साक्षर बनाने की बात पर जोर दिया जा रहा है, लेकिन देश को आगे बढ़ाने के लिए नागरिक को साक्षर होने साथ शिक्षित भी होना चाहिए. देश को ऐसे समूह की जरूरत नहीं है, जो सिर्फ पढ़ा लिखा हो, जबकि देश को ऐसे लोग चाहिए जो शिक्षा के बल पर जीवन में आगे बढे. आजकल पढ़ा लिखा तो रोबोट भी होता है, तो इसका क्या मतलब वो शिक्षित है? रोबोट अपनी पढाई का उपयोग खुद नहीं कर सकता, जितना उससे बोला जायेगा वो उतना ही करेगा. हमें रोबोट नहीं बनना है.

शिक्षा आज के समय में सबका मौलिक अधिकार बन गया है. लड़का हो या लड़की, या किसी भी जाति, धर्म, क्षेत्र का इन्सान शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार रखता है. स्वामी विवेकानंद ने हमेशा शिक्षा पर जोर दिया, साथ ही उन्होंने लड़का लड़की को समान शिक्षा देने की बात भी कही. शिक्षा व शिक्षा का स्वरुप आज पूरी तरह से बदल गया है, खुले आसमान के नीचे लगने वाली क्लास की जगह आज स्मार्ट क्लास ने ली है. छोटे छोटे एक भवन के स्कूल की जगह इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल ने ले ली है.

भारत के अलग अलग प्रदेश के हिसाब से शिक्षा का स्तर (Education level in India state wise)-

क्रमांकप्रदेश का नामपरसेंटेज (%)
1.केरल93.9%
2.लक्ष्यद्वीप92.28%
3.मिजोरम91.58%
4.त्रिपुरा87.75%
5.गोवा87.4%
6.दमन एवं द्वीप87.07%
7.पौण्डीचेरी86.55%
8.चंड़ीगढ़86.43%
9.दिल्ली86.34%
10.अंडमान निकोबार86.27

बिहार में साक्षरता 63.08% है, जो की पुरे भारत में सबसे कम शिक्षित प्रदेश है.

ये कुछ बातें है, जिससे शिक्षा के महत्व को हम जान सकते है (Importance of education in life)

  1. एक खुशहाल जीवन के लिए – अगर आप एक खुशहाल, सुखी जीवन चाहते है, तो आपको शिक्षित होने की बहुत आवश्कता है. शिक्षा के बिना आप जीवन में सफल नहीं हो सकते है, शिक्षा से आपका भविष्य सुंदर व सुरक्षित होता है. शिक्षा अगर आपके पास है तो आप जीवन में कुछ भी हासिल कर सकते है, आपको किसी के सामने हाथ फ़ैलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी.
  2. पैसा कमाने के लिए – खुशहाल जीवन के लिए आज के समय में धन सबसे मुख्य है. धन से सब कुछ नहीं लिया जा सकता है, लेकिन बहुत कुछ लिया जा सकता है. शिक्षित व्यक्ति मेहनत करके अच्छा पैसा कम सकता है, उसे अच्छी जॉब मिल सकती है. आज के समय में जितने ज्यादा आप शिक्षित होंगें, उतना अच्छा आपका करियर बनेगा.
  3. समानता – अगर आप चाहते है कि आपके साथ कोई भेदभाव न हो तो आपको शिक्षित होना बहुत जरुरी है. कोई इन्सान किसी भी धर्म, जाति, लिंग का हो अगर वो शिक्षित हो तो उसे एक समान दर्जा मिलता है.
  4. आत्म निर्भर बनते है – अगर आप आत्म निर्भर, स्वावलंबी बनना चाहते है तो शिक्षा बहुत जरुरी है. इससे आप अपने व अपने परिवार को संभाल सकते है, आपके अंदर बड़े से बड़े निर्णय लेने का आत्मविश्वास आता है.
  5. आप अपने सपने को साकार कर सकते है – आपके जीवन में आपका सपना है एक सफल इन्सान बनने का, बड़ा अमीर बनने का, फेमस बनने का, तो सपने साकार करने का एक ही मूलमंत्र है शिक्षा. हां खिलाड़ी इसमें एक अपवाद है, जो कम पढ़े लिखे होते है, लेकिन फिर भी सफल होते है. इन सब के बावजूद ज्यादातर केस में सफलता के लिए आपको डिग्री की जरूरत पड़ती है.
  6. अच्छा नागरिक बनाता है – आप अगर शिक्षित है, तो देश के प्रति आप अपनी ज़िम्मेदारी समझेंगें और एक अच्छा नागरिक बनते है. शिक्षित व्यक्ति ही देश को आगे बढाता है, वो सही व गलत में फर्क समझता है. एक शिक्षित व्यक्ति अपने मौलिक, नैतिक व क़ानूनी अधिकार को समझता है. वह कानून के विरुध्य कार्य नहीं करेगा. अशिक्षित लोग ही आगे बढ़ने के लिए, पैसा कमाने के लिए चोरी, डाका डालना, लूट करता है. अशिक्षित व्यक्ति महिलाओं की, दूसरों की इज्ज़त नहीं करता, ये ही लोग आतंकवाद को बढ़ावा देते है. देश व समाज में शांति के लिए शिक्षा बहुत जरुरी है.
  7. शिक्षित व्यक्ति को सम्मान मिलता है – अगर आप शिक्षित है, तो आपको हर जगह सम्मान मिलेगा. आपकी बात का मान होगा और आपसे सलाह भी ली जाएगी. घर परिवार के अलावा आपको समाज व कार्यस्थल में भी सम्मान दिया जायेगा. अशिक्षित व्यक्ति की बात को कोई भी गहराई से नहीं लेता है.
  8. समाज – हम सब एक समाज में रहते है, हमारा समाज हमसे उम्मीद करता है कि हम पढ़े लिखें और अच्छी नौकरी पाकर सफल बने. और सफल व्यक्ति समाज के स्तंभ होते है, जिनके कन्धों पर समाज खड़ा रहता है. शिक्षा समाज के लिए आपको उपयोगी बनाता है.
  9. आपको कोई बेवकूफ नहीं बना सकता – शिक्षित व्यक्ति का कोई शोषण नहीं कर सकता है, न कोई उसे बेवकूफ बना सकता है. हम एक ऐसे देश में रहते हैं जहां हमें बहुत से अधिकार और स्वतंत्रता दी गई है. अशिक्षित व्यक्ति का कोई भी फायदा उठा सकता है, पढना लिखना न आने की वजह से, उससे कोई भी किसी भी पेपर में साइन करा सकता है.

शिक्षा की कमी क्यूँ है आज –

  1. स्कूल की कमी – आज भी कई ऐसे गाँव है जहाँ स्कूल नहीं है. गाँव के बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए कई किलोमीटर दूर जाना पड़ता है, जिससे कुछ लोग जा पाते है, लेकिन अधिकतर नहीं जा पाते है.
  2. जनसँख्या वृद्धि – देश की जनसँख्या दिन पे दिन बढ़ती जा रही है, इसका असर देश के हर क्षेत्र में नजर आ रहा है. जनसँख्या वृद्धि का भी असर इसमें नजर आ रहा है, हर व्यक्ति को शिक्षा नहीं मिल पा रही है. जितनी जनसँख्या है उसके हिसाब से स्कूल नहीं खुल रहे है.
  3. पैसों की कमी – देश में आज भी गरीबी मुख्य समस्या है. कई ऐसे परिवार है जिन्हें एक समय के खाने के लिए भी बहुत मेहनत करनी पड़ती है, ऐसे में वे लोग पढाई के लिए अतिरिक्त पैसा कहा से लायेगें. पैसों की कमी के चलते परिवार का मुखिया बच्चों को शिक्षा देने में असमर्थ होता है. इसके साथ ही लोगों की यह भी सोच होती है कि अगर बच्चा स्कूल जायेगा तो पैसे कमाने के लिए काम नहीं करेगा और पैसा ज्यादा जरुरी है. कई बार एक परिवार में एक बच्चे को शिक्षा देने के लिए बस पैसे होते है.
  4. शिक्षा महंगी हो गई – भले ही आज देश में शिक्षा के लिए बड़ी बड़ी मुहीम चलाई जा रही, योजनायें निकाली जा रही है, लेकिन इन सब के बावजूद अच्छी शिक्षा आज महंगी है. सरकारी स्कूलों की हालात आज किसी से छुपी नहीं नहीं है, और प्राइवेट स्कूल की शिक्षा महंगी है.
  5. लडकियों को शिक्षा नहीं दी जाती – समाज में आज भी लड़के लड़कियों में फर्क किया जाता है, लड़कियों को शिक्षा देने के अधिकार पर आज भी समाज दो रायें रखता है. छोटी जगह में लड़कियों को घर के काम करने की ही शिक्षा दी जाती है, और लड़कों को बस स्कूल भेजा जाता है.
  6. शिक्षा का स्तर कठिन है – स्कूल में आज पढाई का स्टार बहुत बदल चूका है, बसते का बोझ बढ़ता ही जा रहा है. कई बच्चे इससे घबराते है और स्कूल नहीं जाना चाहते है. आजकल स्कूल की पढाई में बच्चों के साथ साथ माँ बाप को भी मुख्य भूमिका निभानी पड़ती है, लेकिन जो माँ बाप अशिक्षित होते है, उन्हें यहाँ परेशानी से गुजरना पड़ता है.
  7. स्कूल है पैसे कमाने का जरिया – स्कूल आजकल पैसा कमाने का जरिया बन गया है, ढेरों स्कूल तो खोले जा रहे है, लेकिन शिक्षा का स्तर गिरता जा रहा है. पढाई को छोड़ सब होता है, और फीस के नाम पर अधिक से अधिक पैसा लिया जाता है.

साक्षरता को बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा ये कदम उठाये जा रहे है (List of Steps taken by Government of India to improve Literacy Rate in India:) –

  • छोटे शहर व गाँव में रहने वालों के लिए सरकार द्वारा मुफ्त शिक्षा योजना कार्यक्रम शुरू किये जा रहे है.
  • जिला व प्रदेश लेवल पर नए स्कूल व कॉलेज का निर्माण हो रहा है.
  • सामाजिक कार्यकर्ता एक साथ होकर साक्षरता को बढ़ाने के लिए धन इक्कठा कर रहे है, और सरकार की मदद के लिए हाथ बढ़ा रहे है.
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ” भारतीय सरकार द्वारा चलाई जा रही एक नयी मुहीम है, जिसमें लड़कियों की शिक्षा पर जोर दिया जा रहा है.

अन्य पढ़े:

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|

Latest posts by Vibhuti (see all)

Leave a Comment

(0 Comments)

Your email address will not be published. Required fields are marked *